‘वे सम्मानीय नहीं, निंदनीय हैं, शर्मनाक’, अभिनेता परेश रावल का ट्वीट हुआ वायरल

हाल ही में बीजेपी नेत्री नूपुर शर्मा ने पैगम्बर मोहम्मद के खिलाफ एक विवादित टिप्‍पणी की, जिसके बाद उन्‍हें पार्टी से निष्काशित कर दिया गया। उनके बयान के चलते सोशल मीडिया से लेकर सड़कों तक खूब बवाल मचा हुआ हैं। नूपुर शर्मा के खिलाफ अलग-अलग राज्यों में कई मामले दर्ज करवाए गए थे, इन्‍हीं मामलों को लेकर नूपुर ने एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की थी।

शर्मा ने अपने खिलाफ इस मामले को लेकर दायर सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने की याचिका सु‍प्रीम कोर्ट में लगाई थी। जिस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने नूपुर पर तीखी टिप्‍पणी की हैं जो चर्चा में बनी हुई हैं

रावल ने किसे कहा निंदनीय और शर्मनाक

कोर्ट ने शर्मा की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आज पूरे देश में जो भी धार्मिक बवाल मचा हुआ हैं, उसकी जिम्‍मेदार नुपूर शर्मा ही हैं।

बताया जा रहा हैं कि नूपुर का समर्थन करने के कारण ही उदयपुर में कन्हैया लाल की बर्बरता पूर्वक जा’न ले ली गई जिससे देशभर में बवाल मचा हुआ हैं।

वहीं सुप्रीम कोर्ट द्वारा नूपुर शर्मा को लगाई गई फटकार को लेकर सोशल मीडिया पर लोग अपने रिएक्शन्स देते नजर आ रहे हैं। आम लोगों से लेकर राजनेता और कलाकर भी इस मामले पर अपनी राय देते दिख रहे हैं।

इसी बीच अभिनेता परेश रावल ने भी ट्वीट करके अपनी प्रतिक्रिया दी हैं। परेश रावल ने अपने ट्वीट में सिर्फ इतना लिखा हैं कि ‘वे सम्मानीय नहीं, निंदनीय हैं. शर्मनाक’।

रावल ने अपने ट्वीट में किसी का जिक्र नहीं किया हैं, उन्‍होंने ना तो कोर्ट और ना ही नूपुर शर्मा का नाम लिया। ऐसे में ज्‍यादातर यूजर्स उनके ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उनके सवाल कर रहे हैं कि क्‍या उन्‍होंने यह बात नूपुर के लिए कही हैं?

सुप्रीम कोर्ट निशाने पर

हालांकि कई यूजर्स का अंदाजा हैं कि परेश ने यह ट्वीट नूपुर के समर्थन में कोर्ट के लिए लिखी हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट अपनी इस टिप्‍पणी के बाद सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गया हैं।

 

कई यूजर कोर्ट की टिप्‍पणी की अलोचना कर रहे हैं। गीतकार मनोज मुन्ताशिर लिखते हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नूपुर शर्मा की वजह से उदयपुर घटना हुई। मैं समझता हूं कि कोर्ट का ये वक्तव्य नूपुर के विरुद्ध भावनाएं भड़का सकता है।

जिसके चलते उनकी जा’न भी खतरे में आ सकती हैं। अगर जूडिशरी भी शब्द सम्पादित किए बिना टिप्‍पणी करने लगे हैं तो निस्संदेह हम कठिन वक्‍त से गुजर रहे है।