‘कहा था न रमजान में इलाके में मत आना’, AIMIM नेता ने पुलिस को धमकाया, फिर जो हुआ देखें

हैदराबाद से असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM के एक पार्षद को गिर’फ्तार कर लिया गया हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पार्षद पर दो पुलिसवालों को धमकाया और उन से बद्तमीजी करने के आरोप हैं। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी एक वीडियो सामने आया हैं, जिसमें कथित तौर पर AIMIM पार्षद दो पुलिसकर्मीयों को धम’काते दिखाई दे रहे हैं। यह वीडियो खूब वायरल हो रहा हैं।

इस पार्षद का नाम मोहम्मद गौसुद्दीन है। गौसुद्दीन एक वायरल हो रहे वीडियो में कथित तौर पर पुलिसवालों को धमकाते दिख रहे है। इसमें गौसुद्दीन पुलिसवालों को “सौ रुपये का आदमी” बता रहे है।

AIMIM नेता ने पुलिस को ध’मका’या

इसके अलावा पार्षद ने पुलिसवालों को रमजान के पाक महीने में उनके इलाके में नहीं घुसने के लिए भी कहा। वायरल वीडियो के अनुसार गौसुद्दीन ने धम’की भरे शब्‍दों में बोलते दिख रहे हैं।

वह कहते हैं कि ये सबकुछ मेरे इलाके में नहीं चलेगा, तुमसे बोला था कि रमजान के महीने में इधर मत आना। क्यों आए हो? अपनी ड्यूटी निभाओ और जाओ। अपने SI को बुलाओ, मैं बात करता हूँ उससे, उसे बोलो पार्षद है यहां।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पार्षद ने जिन पुलिसवालों के साथ बद्तमीजी की वो मुशीराबाद पुलिस स्टेशन के हैं। 4 और 5 अप्रैल की दरमियानी रात को दोनों पुलिसवाले दुकानें बंद कराने पहुंचे थे जो उनकी ड्यूटी का हिस्सा था।

वहीं भाजपा ने इस मामले में कड़ी कार्रवाही की मांग की हैं। बीजेपी विधायक टी राजा सिंह ने वायरल वीडियो को शेयर करते हुए पार्षद के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

टी राजा सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा कि सीधे तौर पर हैदराबाद पुलिस को तीन दिन तक उसके इलाके में नहीं आने की धमकी दी जाती है और अपनी ड्यूटी कर रहे अधिकारियों के साथ बद्तमीजी भी की जा रही हैं।

BJP ने की कार्रवाई की मांग

उन्‍होंने आगे लिखा कि जब हद से ज्‍यादा आजादी मिल जाती हैं तो यही सब होता हैं। ये वीडियो हैदराबाद के मुशीराबाद इलाके का है, क्या ऐसे लोगों पर कोई कार्रवाई होगी?

वहीं इस मामले को लेकर तेलंगाना सरकार भी हरकत में आ गई हैं। आईटी मंत्री केटी रामा राव ने मामले को संज्ञान में लेते हुए तेलंगाना के डीजीपी से 6 अप्रैल को किए ट्वीट में आरोपी पार्षद पर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही।

रामा राव ने लिखा कि तेलंगाना के डीजीपी से आग्राह हैं कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्‍त एक्शन हो, जो ड्यूटी पर मौजूद अधिकारियों से अभ’द्रता करें। तेलंगाना में ऐसी बद्तमीजी सहन नहीं की जाएगी, फिर चाहे वह किसी भी पॉलिटिकल पार्टी या विचारधारा से संबंध रखने वाली ही क्‍यों ना हो।