जूते पर ‘ठाकुर’ लिखा देख मुस्लिम दुकानदार पर भड़कने वाले संगठनों और पुलिस को जडेजा के जूते पर ‘राजपूत’ लिखा नहीं दिखा क्या?

उत्तर प्रदेश से धर्म मजहब और जाति से जुड़े झगड़े अक्सर सामने आते रहते हैं और इन झगड़ों की वजह से कई बार निर्दोष लोगों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसा ही कल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में देखने को मिला जब ठाकुर ब्रांड का जूता बेचने वाले एक मुस्लिम दुकानदार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में नासिर नाम का मुस्लिम युवक कई वर्षों से जूता बेचने का काम करता है लेकिन कल नासिर के सामने एक मुसीबत तब खड़ी हो गई जब कुछ दक्षि’णपं’थी संगठनों ने उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करवा दी। दक्षिणपंथी संगठनों का कहना है कि नासिर अपनी दुकान पर जो जूता बेच रहा है।

उसकी सोल पर ठाकुर लिखा हुआ है जो कि किसी की भी जातिगत भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला है। ऐसे में जाति की शान और स्वाभिमान की रक्षा के लिए बुलंदशहर के बजरंग दल संयोजक विशाल चौहान ने जूता व्यापारी नासिर के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी। जिसके बाद नासिर को गिरफ्तार कर लिया गया।

नासिर का यह मामला तब और ज्यादा तेजी से फैला जब नासिर और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के बीच बहस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इस वीडियो में नासिर और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के बीच तीखी बहस हो रही है नासिर कहता है कि क्या मैं इन जूतों को घर में बना रहा हूं इस पर बजरंग दल के कार्यकर्ता कहते हैं कि तुम इन्हें यहां लाकर बेच क्यों रहे हो।

वही नासिर की गिरफ्तारी पर देखते ही देखते लोगों ने सवाल उठाना शुरू कर दिया। सुबह से ही लोग नासिर की गिरफ्तारी पर सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे एक यूजर ने लिखा कि क्या पूरे बुलंदशहर में ठाकुर ब्रांड के जूते बेचने वाला अकेला नासिर ही है। इसके अलावा भी की गिरफ्तारी पर लोगों ने जमकर सवाल उठाए जिसके बाद पुलिस ने कुछ ही घंटों में नासिर को छोड़ दिया।

लेकिन इसके बाद भी उत्तर प्रदेश पुलिस पर सवाल उठना बंद नहीं हुए हैं और एक यूजर ने एक पोस्ट शेयर करते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस पर निशाना साधा है। आपको बता दें अब नासिर की गिरफ्तारी पर लोग लगातार सवाल उठा रहे थे और इसी सिलसिले में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के शोधार्थी अजय कुमार ने एक पोस्ट कर क्रिकेटर रविंद्र जडेजा के जूते की तस्वीर शेयर की है जिस पर ‘राजपूत’ लिखा हुआ है।

अजय कुमार ने इस पोस्ट को शेयर करते हुए लिखा कि तस्वीर में यह रविंद्र जडेजा का जूता है जिसे उन्होंने 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेलते हुए पहना हुआ था। जडेजा का यह जूता ASICS कंपनी का है जिसका मतलब होता है। Anima Sana in corpore sano . हिंदी में अगर इसका मतलब होगा आपको दुआ करनी चाहिए कि एक स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग हो।

बता दें कि जडेजा ने अपने इस जूते पर राजपूत लिखवाया हुआ है ऐसे में अजय कुमार का कहना है कि जडेजा के पास एक स्वस्थ शरीर तो है लेकिन उनके पास एक स्वस्थ दिमाग नहीं है .भले ही उन्होंने ASICS कंपनी का जूता पहना हुआ है लेकिन अपने जूते पर राजपूत लिखवा कर उन्होंने अपनी दिमागी जाहिलियत का परिचय दे दिया है।

जडेजा एक जुझारू क्रिकेटर हैं लेकिन उनके अंदर राजपूत होने का अहंकार कूट कूट कर भरा हुआ है जिसे वह हर जगह दिखाते रहते हैं ,यहां तक कि उन्होंने अपने जूते को भी नहीं छोड़ा। ऐसे में अब उत्तर प्रदेश पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं कि क्या उन्हें सिर्फ नासिर का ठाकुर ब्रांड का जूता बेचना ही दिखता है।

तथा इसके साथ ही क्या विशाल चौहान जैसे बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की इनसे भावना आहत नहीं होती हैं क्योंकि ठाकुर और राजपूत ब्रांड का जूता तो कई कंपनियां बना रही है ऐसे में कार्यवाही सिर्फ अकेले नासिर पर ही क्यों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *