मोहम्मद जुबैर की मुश्किलें बढ़ी, दिल्‍ली पुलिस ने लगाई ये तीन नई धाराएं

Alt News के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर दिल्‍ली पुलिस की गिरफ्त में हैं और अब जुबैर की जमानत होना फिलहाल और भी मुश्किल लग रहा हैं। दरअसल दिल्‍ली पुलिस ने जुबैर को दो जुलाई को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के समक्ष पेश किया था। इस दौरान दिल्ली पुलिस ने बताया कि उन्‍होंने जुबैर के खिलाफ दर्ज मामले में तीन और धाराएं शामिल की हैं।

इसके साथ ही दिल्‍ली पुलिस ने काेर्ट में यह जानकारी देते हुए जुबैर की 14 दिन की न्यायिक हिरासत की मांग की। वहीं जुबैर के वकील ने उनकी बेल के लिए कोर्ट में अर्जी दाखिल की हैं।

माेहम्‍मद जुबैर पर लगाई गई नई धाराएं

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जानकारी देते हुए बताया हैं कि पत्रकार मोहम्मद जुबैर के मामले में आपराधिक साजिश, सबूत नष्ट करने की कोशिश और विदेशी चंदा जुटाने संबंधी धाराएं जोड़ी गई हैं।

इसके साथ ही जुबैर की बैंक डिटेल की जानकारी और उन पर दर्ज FIR की कॉपी दिल्ली पुलिस ने ED को भी सौंप दी हैं। इसके साथ ही अब इस मामले में जुबैर के खिलाफ ईडी भी जांच पड़ताल में जुट गई है।

इस मामले को लेकर दिल्ली पुलिस के वकील अतुल श्रीवास्तव ने कहा कि रेजरपे (Razorpay) पेमेंट गेटवे ने दिल्ली पुलिस को जो जानकारी दी हैं, उससे खुलासा हुआ हैं कि ऑल्ट न्यूज को चलाने के लिए विदेशों से फंड लिया जा रहा हैं।

दिल्‍ली पुलिस के अनुसार ऑल्ट न्यूज वाली प्रावदा मीडिया को कुल 2,31, 933 रुपए का विदेशी फंड मिला है। यह फंंड कई देशों से मिला हैं।

बता दें कि Alt News ने अपनी वेबसाइट पर एक लिंक उपलब्‍ध करा रखा हैं, जिसके जरिए ऑल्ट न्यूज फंड जुटाने की अपील करती हैं।

जुबैर ने जुटाया विदेशी फंड

पुलिस के अनुसार ऑल्ट न्यूज और जुबैर ने पाकिस्तान, सिंगापुर, सीरिया, संयुक्त अरब अमीरात के साथ और भी कई देशों से रेजर पे के द्वारा पेमेंट को स्वीकार किया है, जिसकी जांच की जा रही हैं।

इतना ही नहीं पुलिस ने जुबैर के समर्थन में विदेशों से किए जा रहे ट्वीट का भी जिक्र किया हैं। कोर्ट में उन्‍होंने बताया हैं कि सोशल मीडिया के एनालिसिस से पता चला हैं कि जिन ट्विटर हैंडल ने गि’रफ्तारी के बाद मोहम्मद जुबैर का समर्थन किया हैं, उनमें से कई विदेशी हैं।

दिल्‍ली पुलिस के मु‍ताबिक इनमें से ज्यादातर पश्चिम एशियाई देशों जैसे यूएई, बहरीन, कुवैत और कुछ ट्वीटर खाते पड़ोसी देश पाकिस्तान के थे।