किसान आंदोलन: हरियाणा से सूपड़ा साफ़ कर देंगे, खट्टर सरकार के करीबी नेताओं ने छोड़ा साथ, टिकैत के साथ आए नेता

नई दिल्लीः एक ओर जहां पिछले दो महीनों से पंजाब और हरियाणा के किसान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध में सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ प्रदर्शन की वजह से हरियाणा कि खट्टर सरकार पर भी संकट मंडराने लगा है. बता दें कि इस समय केंद्र में भाजपा की सरकार है और यह तीनों ही कृषि कानून इसी वक्त लाए गए हैं।

ऐसे में देश भर में भाजपा शासित राज्यों में सरकारों के सामने संकट खड़ा हो गया है। क्योंकि किसान आंदोलन के चलते उन पर दबाव बना हुआ है और इसमें सबसे पहले हरियाणा की खट्टर सरकार निशाने पर है।

बता दें दो दिन पहले किसानों के नेता राकेश टिकैत द्वारा रोते हुए मीडिया को बयान देने के बाद माहौल बिल्कुल बदल गया है इसके बाद अब किसान आंदोलन को देश भर के किसानों का और ज्यादा समर्थन मिल रहा है और इसका असर सीधे सीधे हरियाणा की खट्टर सरकार पर पड़ रहा है।

हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी जजपा यानी जननायक जनता पार्टी के साथ गठबंधन में सरकार बनाए हुए हैं जिसके अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला हरियाणा के उपमुख्यमंत्री हैं। ऐसे में लंबे चल रहे हैं किसान आंदोलन के बाद अब दुष्यंत चौटाला पर सामने आकर किसान आंदोलन को समर्थन देने का दबाव बन रहा है।

हालांकि अभी तक दुष्यंत चौटाला और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बीच किसी भी तरह की बयानबाजी नहीं हुई है। लेकिन फिर भी दबाव के चलते यह कयास लगाए जा रहे हैं कि मनोहर लाल खट्टर सरकार पर संकट के बादल मंडराना शुरू हो गए हैं। क्योंकि दुष्यंत चौटाला पर दबाव है कि वह भगवा दल के साथ गठबंधन तोड़ कर सीधे किसानों को समर्थन दें।

वही दूसरी तरफ दुष्यंत चौटाला के छोटे भाई दिग्विजय चौटाला ने किसान आंदोलन और भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत को समर्थन देते हुए बड़ी बात कही है. उन्होंने राकेश टिकैत को सच्चा देशभक्त बताते हुए कहा कि राकेश टिकैत ने हमेशा किसानों के हित की बात की है।

अगर सरकार को कार्यवाही करनी ही है तो (गुरनाम सिंह) जैसे लोगों पर करें जिन्होंने ही किसानों को भड़काया है। इधर इनेलो के वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने भी किसानों को समर्थन देने की बात कही है उन्होंने कहा कि वे शनिवार को गाजीपुर में प्रदर्शन स्थल पर जाएंगे उन्होंने किसानों को समर्थन देने के लिए विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *