Fact Check: अब कौन चलाएगा ‘प्राइम टाइम’? रविश कुमार ने NDTV से दिया इस्तीफा, वायरल खबर की जानिए हकीकत

सोशल मीडिया पर हाल ही में रविश कुमार के इस्तीफे की खबर सामने आई. लेकिन यह खबर झूठ निकली. इसे लेकर रविश कुमार ने कहा कि हो सकता है कि किसी वेबसाइट ने हिट्स पाने के चक्कर में इस तरह की उल्टी सीधी न्यूज़ चला दी हो. वहीं इससे पहले एनडीटीवी को अडाणी कंपनी द्वारा खरीदे जाने की खबर सामने आई जिसके चलते एनडीटीवी के शेयरों में भारी उछाल देखने को मिला.

इकोनामिक टाइम्स की एक खबर के मुताबिक अडाणी की कम्पनी द्वारा ख़रीदे जाने की खबरों ने एनडीटीवी के शेयरों में भारी उछाल आया. इस मामले को संज्ञान में लेते हुए मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने अडाणी एंटरप्राइजेज को एक नोटिस भेजा.

रविश का इस्तीफ़ा

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने अडाणी ग्रुप से नोटिस जारी करके एनडीटीवी को ख़रीदने के बारे में पूछताछ की. वहीं रविश कुमार के इस्तीफे की खबर पर बात करें तो कई मीडिया रिपोर्ट्स में इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया.

opindia की रिपोर्ट के मुताबिक एनडीटीवी में कई सालों से काम कर रहे रविश कुमार ने अब चैनल को अलविदा कह दिया है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रविश कुमार का आगे का प्लान क्या है, इसे लेकर अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है.

रविश कुमार एनडीटीवी पर अपने प्राइम टाइम शो को लेकर चर्चा में रहते है. ऐसे में उनके इस्तीफे की खबर सामने आने पर सोशल मीडिया पर चर्चा चलने लगी कि अब कौन प्राइम टाइम शो को होस्ट करेगा.

इन सब खबरों के बीच रविश कुमार ने खुद अपने इस्तीफे को लेकर फेसबुक पर एक पोस्ट किया और इन खबरों को अफवाह और निराधार करार दिया.

एनडीटीवी को खरीदेगा अडाणी ग्रुप

वहीं एनडीटीवी को अडाणी ग्रुप द्वारा खरीदे जाने की खबरें भी काफी बड़ी तादात में फैलाई गई. दरअसल यह चैनल मुकेश अंबानी और गौतम अडानी जैसे उद्योगपतियों पर हमेशा निशाना साधता रहा है.

इसे लेकर वरिष्ठ पत्रकार जे गोपीकृष्णन ने एक ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि अडाणी ग्रुप एक पुराना टीवी चैनल खरीदने वाला है जो उन पर हमेशा हम’लावर रहता है. इस डील को लंदन में फाइनल किया जाएगा. बताया जा रहा है कि यह डील 1600 करोड़ रुपये की है.

लेकिन एनडीटीवी की डील की खबरों की अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई और यह मात्र अफवाहें साबित हुई. आपको बता दें कि एनडीटीवी को अडानी ग्रुप द्वारा खरीदे जाने की अटकलें हाल ही में कंपनी द्वारा लिए गए एक फैसले के चलते लगाई गई.

दरसल हाल ही में कंपनी ने द क्विंट में बतौर एडिटोरियल डायरेक्टर रहे संजय पुगालिया को अडानी इंटरप्राइजेज की मीडिया इनिशिएटिव्स में CEO और मुख्य संपादक नियुक्त किया है.