सिलेंडर में बची हुई गैस का पता लगाने के लिए आजमाएँ यह ट्रिक, सिर्फ गीले कपड़े की पड़ेगी जरूरत

आज के दौर में बढ़ती महंगाई के चलते आम लोगों के लिए घर चलाना मुश्किल होता जा रहा है, घर का खर्च लगातार बढ़ता जा रहा है. ऊपर से रसोई गैस के दाम भी तेजी से बढ़ते ही जा रहे है. एक तरफ लोग कमरतोड़ मंहगाई से परेशान है और उसी पर मिलावट और गैस चोरी करने वालों की भी कोई कमी नहीं है. जिसके चलते ग्राहकों को भारी नुकसान भुगतना पड़ता है. हमारे घर आने वाला सिलेंडर पूरी तरह से भरा है या नहीं यह जान पाना भी मुश्किल होता है.

लेकिन दोस्तों आज हम आपको एक बहुत ही आसन तरीका बताने जा रहे है जिसकी मदद से आप आसानी से जान पाएंगे कि आपका सिलेंडर कितना खाली है और कितना भरा हुआ है.

जानिए सिलेंडर कितना भरा है और कितना खाली

ऐसे में अगर आपका सिलेंडर खाना बनाते वक्त भी अचानक बंद पड़ जाता है तो आप इस तरीके से यह पता कर सकेंगे कि सिलेंडर में गैस खत्म हो गई है या नहीं.

अगर आपका चूल्हा जलते-जलते एकदम से ही बंद पड़ जाए और आपको यह पता करना हो कि सिलेंडर पूरी तरह से खाली हो गया है या नहीं या फिर इसमें गैस बची हुई है तो इसके लिए आपको सिर्फ एक कपड़े की जरूरत पड़ेगी.

जी हां आप सिर्फ एक कपड़े की मदद से यह जान सकते है कि आपका गैस सिलेंडर कितना भरा हुआ है और कितना खाली है. इसके लिए आपको एक कपड़ा चाहिए. कपड़े के रूप में आप किसी छोटे या बड़े तौलिए का उपयोग भी कर सकते है.

इस कपड़े को पानी में अच्छी तरह से भिगो दे और फिर उससे सिलेंडर को अच्छी तरह से ढक लें. ऐसा करने पर अगर सिलेंडर खाली होता तो आपके कपड़े में मौजूद पानी जल्दी सोख लिया जाएगा और कपड़ा सूख जाएगा.

गीला कपड़ा बताएगा कितनी गैस है बाकि

लेकिन अगर सिलेंडर आधा या थोड़ा कम भरा हुआ होगा तो उस हिस्से का पानी कम सोखेगा. इस तरह गीला कपड़ा डालने पर आप जान सकते है कि सिलेंडर कितना भरा. कपडा जितना सूखा है तो समझ लीजिए की उतनी गैस खत्म हो चुकी है और जितना कपड़ा गीला है उतनी गैस मौजूद है.

 

दरअसल गैस से भरा हुआ सिलेंडर हमेशा ठंडा बना रहता है, इसलिए वह गीले कपड़े से पानी को तेजी से नहीं सोखने देता है. वहीं दूसरी तरफ खाली हो चूका सिलेंडर गर्म हो जाता है जो पानी को तेजी से सोख लेता है.

इस तकनीक के उपयोग से आप यह भी आसानी से पता कर सकेंगे कि आपके सिलेंडर से गैस चोरी तो नहीं की जा रही है. बता दें कि कई बार ऐसा देखा गया है कि सिलेंडर घर पर डिलीवर करते वक्त कई लोग उसे रास्ते में गैस निकाल कर बदले में पानी भर देते है.