VIDEO: इस बजट सत्र में आपने अगर इन महिला सांसदों के भाषण को नहीं सुना तो कुछ नहीं सुना!

बजट सत्र के दौरान महुआ मोइत्रा (Mahau Moitra) हरसिमरत कौर Harsimrat Kaur और मीनाक्षी लेखी (Meenakshi) लेखी ने जोरदार भाषण दिए. इनकी चर्चा संसद के भीतर और बाहर हर जगह हो रही है.

सत्ता के गलियारों से कभी कोई बयान तो कभी कोई तस्वीर ऐसी सामने आती है जो कि जमकर वायरल होती है और ऐसा ही कुछ इन दिनों हो रहा है. बता दें कि हाल ही में संसद में बजट सत्र चल रहा है जिसमें एक तरफ सत्ता पक्ष है तो दूसरी तरफ विपक्ष। दोनों ही अलग-अलग मुद्दों पर अपनी अपनी राय रख रहे हैं तो एक दूसरे को आड़े हाथ भी ले रहे हैं।

इस बीच बजट सत्र के दौरान कई भाषण काफी वायरल हुए जिन पर खूब लेख लिखे गए। बता दें हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण खूब वायरल हुआ जिसमें वह विपक्षी नेता गुलाम नबी आजाद के बारे में चर्चा करते हुए भावुक हो गए लेकिन अब इन महिला सांसदों के भाषण भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं।

महुआ मोइत्रा

महिला सांसदों में सबसे पहला नाम आता है महुआ मोइत्रा का जिनका भाषण इन दिनों टीवी से लेकर और सोशल मीडिया तक चर्चा में बना हुआ है। बता दें कि महुआ मोइत्रा पहले एक कांग्रेस में रह चुकी हैं और बाद में टीएमसी में आकर 2016 में बंगाल विधानसभा चुनाव में कबीरपुर विधानसभा से विधायक बन गयीं। साल 2019 में मोइत्रा ने लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बन गई। और अब एक भाषण की वजह से सांसद महुआ मोइत्रा सुर्खियों में बनी हुईं हैं।

बता दें कि 8 फरवरी को टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा लोकसभा में भाषण दे रही थी इस दौरान उन्होंने कहा कि “न्यायपालिका जिसे कभी बहुत पवित्र माना जाता था अब पवित्र नहीं रह गई है. ऐसा उस दिन से हुआ, जब अपने पद पर बैठे CJI ने अपने ही खिलाफ लगे एक आरोप में खुद ही सुनवाई की और खुद को ही बरी कर दिया।

और फिर अपने रिटायरमेंट के तीन महीने के बाद राज्यसभा का नॉमिनेशन स्वीकार लिया. वो भी जेड प्लस सिक्योरिटी के साथ। यही नहीं महुआ मोइत्रा ने हाल ही में लाए गए कृषि कानूनों को साथ CAA -NRC के अलावा लॉकडाउन के दौरान मा#रे गए मजदूरों को लेकर भी मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है।

मीनाक्षी लेखी

 

सदन में आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलता रहता है जहां सत्ता पक्ष और विपक्ष एक दूसरे पर आरोप लगाते रहते हैं। ऐसे में एक ओर जहां महुआ मोइत्रा ने सरकार पर तीखे ह’मले किए तो वहीं बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी सरकार की नीतियों का बचाव करते हुए दिखीं। बता दें कि हाल ही में सदन में साल का बजट पेश किया गया जिस पर खूब सवाल उठाए गए

ऐसे में बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने आर्थिक नीतियों का बचाव करते हुए कहा कि “मुझे जब आर्थिक चीजों की जानकारी चाहिए होती है तो मैं इकॉनमिक्स बैकग्राउंड वाले लोगों के पास जाती हूं जैसे कि गीता गोपीनाथ। लेकिन विपक्ष के कुछ लोग इस काम के लिए रिहाना और मिया खलीफा जैसे लोगों के पास जाते हैं।

यही नहीं बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने अपने भाषण में विपक्षी नेताओं को चीन से सीख देने की बात कह डाली उन्होंने आगे कहा कि “कम्युनिस्ट चीन को भी अपनी प्रगति के लिए पूंजीपतियों को आगे लाना पड़ा. चीन को भी अलीबाबा और जैक मा को पैदा करना पड़ा। मैं अपने भारतीय पूंजीपतियों के साथ हूं। वे भारत की अर्थव्यवस्था में योगदान देते हैं। बजट उन सबको मौका दे रहा है, जो राष्ट्र निर्माण करना चाहते हैं।

हरसिमरत कौर बादल

महिला सांसदों की लिस्ट में अगला नाम है हरसिमरत कौर बादल का जिनका भाषण इन दिनों जमकर वायरल हो रहा है। बता दें कि 8 फरवरी के रोज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि देश में एक नए तरीके का समूह पैदा हो गया है यह आंदोलनजीवी समूह है जो हर आंदोलन में नजर आता है। इन आंदोलनकारियों को पहचानने की जरूरत है यह आंदोलनजीवी परजीवी होते हैं।

ऐसे में अब सांसद हरसिमरत कौर बादल ने आंदोलनकारियों को परजीवी कहने पर पीएम मोदी पर निशाना साधा है क्योंकि इन दिनों देश में किसान आंदोलन चल रहा है जिसमें पंजाब और हरियाणा के किसान सबसे ज्यादा है।

सांसद हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि “प्रधानमंत्री ने किसानों को परजीवी कहा प्रधानमंत्री किसे पर जी भी बोल रहे हैं अन्नदाताओं को उन किसानों को जिनकी वजह से ही आपकी मेज पर खाना आता है। गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों पर ला#ठि’यां बरसाई गईं टियर गै#स के गो#ले छोड़े गए।

हरसिमरत कौर बादल ने आगे कहा कि किसान ए’के-47 नहीं उगाते। किसानों को मोदी सरकार ने तरह से बदनाम किया है उनका दमन किया है बता दें अपने भाषण के दौरान हरसिमरत कौर बादल काफी गुस्से में नजर आ रही थी और अब उनका यह भाषण जमकर वायरल हो रहा है।