बिहार में अनपढ़ युवक ने बनाया कबाड़ से हेलीकॉप्टर, विदेश का करोड़ों का ऑफर ठुकराया

भारत में प्रतिभाशाली लोगों की कोई कमी नहीं है, कमी है तो सिर्फ अवसर और साहस की. अपनी प्रतिभा से देश का नाम दुनिया भर में रोशन करने वाले कई लोग है. हालांकि भारत में एक ऐसा सिस्टम मौजूद है जिसके चलते यहां पर लोगों को अपनी प्रतिभा में निखार लाने के लिए बहुत ही ज्यादा और कड़ी मेहनत करना पड़ता है. लेकिन उनकी मेहनत एक दिन रंग जरुर लेकर आती है.

ऐसे ही एक प्रतिभा के धनी युवा के बारे में आज हम बात करने जा रहे है, जिसकी प्रतिभा के बारे में जानकर आपको जरुर हैरान होगी.

युवा ने बनाया हेलीकॉप्टर

यह युवक बिहार के गोपालगंज के बेलसंड गांव का निवासी है. इसका नाम अमरजीत माझी है और आपको बता दें कि इन दिनों अमरजीत हेलीकॉप्टर बनाने में व्यस्त हैं.

बता दें कि अमरजीत माझी ने ज्यादा पढाई-लिखाई नहीं कर रखी है. आर्थिक तं’गी के चलते वो शिक्षा हासिल करने से वंचित रह गए. कम पढ़े लिखे होने के बाद भी उनमें प्रतिभा और साहस की कोई कमी नहीं है.

उन्होंने एक लक्ष्य शा तय किया है कि उन्हें हेलीकॉप्टर का निर्माण करके उसे उड़ाना है और पिछले एक साल से वो लगातार हेलीकॉप्टर बनाने में जुट हुए है. आपको बता दें वो पहले एक मैकेनिक के तौर पर काम किया करते थे.

आपको जानकर हैरानी होगी कि उन्हें विदेशी कंपनी द्वारा विदेश आकर काम करने का ऑफर दिया गया था लेकिन उन्होंने ऑफर को ठुकरा दिया था.

उनका कहना है कि उन्हें अपने देश का नाम रोशन करना है और इसी के चलते वो लगातार गांव में रह कर ही हेलीकॉप्टर बनाने के प्रयासों में जुटे हुए है.

विदेश से मिली ऑफर को ठुकराया

अमरजीत अपने लक्ष्य को हासिल करने में जुटे हुए है. जब उनके पिता को पहली बार पता चला कि अमरजीत हेलीकॉप्टर बनाने और उड़ाने की तैयारी में जुट हुए है तो उन्होंने अपने बेटे से इसकी पूरी जानकारी मांगी थी.

इसके बाद अमरजीत ने पिता को भरोसे में लेने के लिए एक मिनी हेलीकॉप्टर उड़ा कर दिखाया था. इस मीनिंग हेलीकॉप्टर को तैयार करने के बाद वो काम के लिए दुबई चले गए थे. यहां पर कुछ दिन काम करने के बाद जब उनका वहां मन नहीं लगा तो वो वापस आ गए.

इसके बाद वो अपने मुल्क वापस लौट आए और हेलीकॉप्टर का निर्माण शुरू कर दिया था. लेकिन अमरजीत के लिए अपने सपने को हकीकत का रूप लेने इतना आसान नहीं था उन्हें इसके लिए काफी संघर्ष करने पड़े.

पैसों की किल्लत के चलते पिता ने बेटे के सपने को साकार करने के लिए अपनी जमीन बेच कर उसकी सहायता की है. अब वो पिता के साथ हेलीकॉप्टर बनाने में जुटे हुए है.

बता दें कि अमरजीत के हेलीकॉप्टर बनाने का कम लगभग पूरा होने को है, यह 80 प्रतिशत बन चूका है. हेलीकॉप्टर का इंजन, सीट एवं पंखा समेत पूरा नक्शा तैयार कर लिया गया है. वो अपने लक्ष्य को हासिल करने के बेहद करीब है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *