मस्जिदों से हुआ ऐलान, कश्मीरी पंडितों और सिखों की हिफाज़त का ज़िम्मा हमारा, न जाएँ अपना घर छोड़कर

जम्मू और कश्मीर में एक बार फिर से बवाल मचा हुआ है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यहां रहने वाले हिन्दू परिवारों पर हम’ले किये जा रहे है जिसके चलते उनमें भ’य का माहौल बनता जा रहा है. पिछले दिनों चार हिंदू और सिखों को निशाना बनाया गया और वो इस दुनिया में नहीं रहे. इसके बाद से ही घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन की खबरें सामने आ रही है.

आपको बता दें कि कश्मीर घाटी में हुई 1990 के दशक की चरमपं’थी घट’ना के बाद यहां से हजारों हज़ारों कश्मीरी हिंदुओं या पंडितों ने पलायन किया था, इसके बाद यहां पर थोड़े बहुत ही हिंदू समुदाय के लोग बचे हुए हैं. बताया जा रहा है कि बचे हुए हिंदू भी कश्मीर छोड़ने का विचार कर रहा हैं.

कश्मीरी पंडितों का पलायन रोकने की अपील

पिछले दिन एक चरम’पं’थी हम’ला हुआ था जिसमें 28 नागरिक मारे गए हैं. जिनमें से 5 लोग स्थानीय हिंदू और सिख समुदाय से ताल्लुक रखने वाले थे जबकि दो अन्य बाहरी मजदूर थे.

इसके बाद घाटी में ड’र का माहौल बन गया है और बीते कुछ ही दिनों में कई कश्मीरी पंडित परिवार घाटी से पलायन कर गए जबकि खबरों के अनुसार कई परिवार पलायन की तैयारी में है.

कश्मीर के अल्पसंख्यक समुदाय के बीच एक बार फिर से ड’र और आ;तं’क का माहौल बन गया है. बीते कुछ सालों से केंद्र की मोदी सरकार इस प्रयास में है कि दशकों पहले पलायन करने वाले कश्मीरी पंडितों को वापस घाटी में ही वसाया जा सके.

लेकिन इसके उल्ट कश्मीर में रह रहे पंडितों का अस्तित्व ही सवालों के घेरे में आ गया हैं और सरकार उन्हें भरोसा दिलाने में असफल रह रही हैं.

लेकिन इसी बीच एक राहत भरी खबर सामने आई है जो इस पलायन को रोक सकती हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार घाटी की कई मस्जिदों से एक गुजारिश की गई है जिसकी काफी प्रशंसा की जा रही हैं.

गैर मुस्लिमों की सुरक्षा के लिए आगे आए मुस्लिम

स्थानीय अख़बारों के अनुसार कश्मीर में जामा मस्जिद से जुमे की नमाज़ के बाद कश्मीरी मुसलमानों से अपील की गई है कि अल्पसंख्यक हिंदुओं और सिखों की रक्षा करना उनका नैतिक फर्ज है, इसलिए कश्मीरी मुस्लिम उन्हें सुरक्षा का विश्वास दिलाए.

इसके साथ ही मस्जिद से आतं’कवा’द के खिलाफ भी आवाज़ बुलंद की गई. बताया जा रहा है कि जम्मू कश्मीर की सभी मस्जिद से इसकी घोषणा की जाएगी.

इसके साथ ही बड़ी तादात में मुस्लिमों ने अल्पसंख्यकों के साथ मिलकर क’ट्टरपं’थियों के खिलाफ चौक चौराहे पर नारेबाजी भी की है. गैर मुस्लिमों की सुरक्षा के लिए मुस्लिम समुदाय के लोग आगे आ रहे है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *