वायरल वीडियो: जबरन मुस्लिम कपड़ा व्यापारी की दुकान बंद करवाई, पुलिस ने नेता को जेल में डाल दिया

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) जिले में एक बीजेपी कार्यकर्ता को मुस्लिम स्ट्रीट वेंडर को परेशान करते देखा गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद गोविंद नगर पुलिस ने मुस्लिम कपड़ा व्यापारी के साथ बदसलूकी करने और सांप्रदायिक बयान देने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है.

दरअसल, वायरल हो रहे वीडियो में एक्टिविस्ट तुषार शुक्ला को एक मुस्लिम कपड़ा व्यापारी को कपड़े बेचने से नहीं रोकने के लिए दूसरे ‘हिंदुओं’ से सवाल करते देखा जा सकता है। भाजपा नेता तुषार शुक्ला वहां मौजूद दूसरे लोगों को कह रहा है कि तुमलोग भी हिंदू होकर इनलोगों को देखते नहीं हो क्या।

कानपुर पुलिस ने तुषार शुक्ला को किया गिरफ्तार (फोटो- @kanpurnagarpol/Twitter)

इसके बाद मुस्लिम व्यापारी अपनी दुकान समेटता नजर आ रहा है. आजतक से जुड़े रणंजय सिंह के मुताबिक, तुषार ने व्यापारी से धर्म पूछकर उसे अपमानित किया गा’लि’यां बकि और उससे जबरदस्ती जय श्री राम भी कहलवाया.

वही इस मामले को लेकर कानपुर पुलिस ने बताया कि गोविंदनगर थाने में संबंधित धाराओं के तहत एक केस दर्ज कर लिया गया है. और अभियुक्त तुषार शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस ने ट्विटर पर गिरफ्तार किए गए व्यक्ति की तस्वीर भी पोस्ट की है. कानपुर पुलिस के मुताबिक आरोपी के खिलाफ जरूरी कार्रवाई की जा रही है.

गौरतलब है कि ये वीडियो ऐसे समय में वायरल हुआ है जब हाल में कानपुर में बीते हफ्ते सां’प्रदा’यिक हिं#सा भड़क गई थी. दो दिन पहले ही कानपुर पुलिस ने धार्मिक टिप्पणी करने वाले बीजेपी नेता हर्षित श्रीवास्तव को भी गिरफ्तार किया था. हर्षित पर आरोप लगा कि उसने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट के जरिए माहौल बिगाड़ने की कोशिश की थी।

कानपुर पुलिस कमिश्नर विजय मीणा ने कहा था कि जो भी धार्मिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इससे पहले बीते शुक्रवार 3 जून को हुई कानपुर हिं#सा मामले में अब तक पुलिस ने 50 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने आरोपियों की पहचान फोटोग्राफ और वीडियो फुटेज के जरिए की थी.

उत्तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने कहा था कि आरोपियों के खिलाफ गैं#ग’स्टर ए’क्ट के तहत भी कार्रवाई होगी. साथ ही उ’पद्रवि’यों की और से जिस भी प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाया गया, उससे उसकी भी रिकवरी की जाएगी.