सिंधु बॉर्डर पर जब मंच से मौलाना ने दिया पंजाबी में भाषण, आन्दोलन में जोश की लहर

महीनों से चले आ रहे किसान आंदोलन में हर रोज कुछ ना कुछ नया देखने को ही मिलता है कभी किसी बॉलीवुड स्टार का ट्वीट वायरल होता है तो कभी देश के किसी दिग्गज राजनेता का बयान चर्चा में रहता है. बीते कुछ दिनों से सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक किसान आंदोलन को लेकर जिस तरीके का माहौल चल रहा है उससे यही कयास लगाए जा रहे हैं कि महीनों से चला आ रहा किसान आंदोलन अभी और लंबा चलेगा।

हालांकि राजधानी दिल्ली में हुई हिं#सक घ’टना के बाद यह भी कयास लगाए जा रहे थे कि किसान आंदोलन अपने आखिरी पड़ाव पर हैं लेकिन देखते ही देखते इसका स्वरूप बदल गया. दरअसल, किसान नेता राकेश टिकैत के मीडिया से वार्ता के दौरान रोने की वजह से आंदोलन का माहौल बिल्कुल बदल गया जिसके बाद देश भर से किसान सिंघु बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर की तरफ पहुंचने लगे।

अब मुस्लिम धर्मगुरु का वीडियो वायरल

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि अध्यादेश के खिलाफ किसान आंदोलन शुरू हुआ था तब एक बात खासी चर्चा में रही थी कि यह आंदोलन पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा ही क्यों किया जा रहा है क्या यह किसी विशेष धर्म समुदाय का ही आंदोलन है. और जाहिर तौर पर आंदोलन की तस्वीरों को देखते हुए एक बार तो हर किसी के जहन में यह सवाल उठेगा ही।

लेकिन बीते कुछ दिनों से सिंधु और गाजीपुर बॉर्डर से कई ऐसी तस्वीरें और वीडियो सामने आए जिसमें सिख समुदाय के अलावा अलग-अलग समुदायों के लोग भी दिखाई दिए जिसमें मुस्लिम समुदाय प्रमुख है।

 

और ऐसा ही एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर वार हो रहा है जिसमें मुस्लिम धर्मगुरु सरकार सहित मीडिया को आड़े हाथों ले रहे हैं जिसके बाद यह नहीं कहा जा सकता कि यह सिर्फ एक धर्म या समुदाय से जुड़े लोगों का आंदोलन है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो सिंघु बॉर्डर के एक मंच का है इसमें पंजाब के लुधियाना के एक मुस्लिम धर्मगुरु सरकार और मीडिया पर तीखे हमले कर रहे हैं। पंजाब के अनाम मौलवी वीडियो में कह रहे हैं कि “इतिहास याद करेगा जब भारत के किसान अपने स्वाभिमान के लिए लड़ रहे थे तब गोदी मीडिया सरकार के त’लवे चा’टने में व्यस्त था।

यही नहीं मौलवी अपने भाषण के दौरान किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत की जमकर तारीफ कर रहे थे उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों का जो भी हो लेकिन एक बात स्पष्ट है इन कानूनों ने हम सभी भाइयों को एक साथ ला दिया है।

टिकैत के जो आंसू थे उन्होंने उत्तर प्रदेश पंजाब और हरियाणा के लोगों को यहां भेज दिया है जिससे लोगों को पुलिस की बर्बरता पूर्ण कार्यवाही के बावजूद भी विरोध के लिए मजबूर होना पड़ा।

यही नहीं मौलवी ने अपने भाषण के दौरान राकेश टिकैत और हरियाणा के लोगों को संपूर्ण भारत के लोगों को एकजुट करने के लिए धन्यवाद भी दिया।