अयोध्या: राम जानकी मंदिर से अष्टधातु की नौ बेशकीमती मूर्तियां हुई चोरी, पहले भी दो बार हो चुकी चोरियां

अयोध्या से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है. राजमंदिर से कई बेशकीमती मूर्तियां चोरी हो गई है. इस खबर ने शासन-प्रशासन को हिला कर रख दिया है. बताया जा रहा है कि हैदरगंज थाना क्षेत्र में खपराडीह स्टेट के राजमंदिर में रखी प्राचीन और बेशकीमती 9 मूर्तियों पर अज्ञात चोरों ने हाथ साफ कर दिया है. बताया जा रहा है कि जल्दबाजी में ढाई इंच की एक छोटी मूर्ति चोरों ने मंदिर प्रांगण में ही गिरा दी.

यह मूर्ति पुलिस ने छानबीन के दौरान बरामद की. मामले की जांच पड़ताल के लिए फोरेंसिक टीम, डॉग स्क्वॉयड और क्राइम ब्रांच की सर्विलांस टीम मौके पर पहुंच गई है.

बेशकीमती मूर्तियां उड़ा ले गए चोर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक थाने की पूरी पुलिस फोर्स खेत और बाग की खाक छानने में लगे हुए है. बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब राजमंदिर में चोरी हुई है, इससे पहले भी दो बार मंदिर में चोरी हो चुकी हैं. जिसमें बड़ी-बड़ी अष्टधातु की बेशकीमती मूर्तियां चोर उठा कर ले गए थे.

इस मामले का खुलासा अभी तक नहीं हो पाया है. बुधवार की सुबह लगभग 6:30 बजे खपराडीह स्टेट के श्रीराम जानकी मंदिर (ठाकुरद्वारा) के पुजारी सोमनाथ तिवारी जब रोज की तरह मंदिर में पूजा-पाठ करने पहुंचे तो हैरान रह गए.

उन्होंने मंदिर के प्रांगण का गेट खोला तो उनके होश उड़ गए. दरवाजे पर लगा ताला टूटा हुआ था और दरवाजा खुला हुआ था. जब पुजारी अंदर गए तो पाया कि मंदिर के अंदर रखी प्राचीन काल की छोटी बड़ी नौ मूर्तियां अपने स्थान से गायब थी.

जबकि पत्थर की बनी राम लक्ष्मण सीता और हनुमान की मूर्ति अपने स्थान पर थी. इसके बाद प्राचीन धातु की मूर्तियां गायब होने की खबर पुलिस को दी गई. तब मौके पर प्रभारी निरीक्षक हैदरगंज अश्विनी मिश्रा पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे.

पहले भी हो चुकी चोरी

बताया जा रहा है कि पुलिस लगातार मामले की जांच-पड़ताल कर रही है. इस दौरान पुलिस टीम ने मंदिर प्रांगण में एक लगभग ढाई इंच की गणेश की प्राचीन मूर्ति बरामद की.

बताया जा रहा है कि इस मंदिर का निर्माण पूर्व के खपराडीह के राजघराने ने 1905 में श्रीराम जानकी मंदिर ट्रस्ट के नाम से कराया गया था. इस मंदिर से दो बार पहले भी चोरी हो चुकी है लेकिन इसका अभी तक खुलासा नहीं हुआ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *