यूपी: मदरसों के कायाकल्प की तैयारी, योगी सरकार अरबी में ऐप लॉन्च करेगी

यूपी की योगी सरकार की दूसरी पारी शुरू हो चुकी है। योगी सरकार काफी सक्रिय भी नजर आ रही है। एक के बाद एक लगातार फैसले लिए जा रहे हैं। इसी बीच यूपी के कारागार एवं होमगार्ड मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मवीर प्रजापति ने नए निर्देश जारी कर बताया हैं कि अब जेलों में गायत्री मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र बजाया जायेगा।

वहीं सरकार ने अपने इस फैसले के पीछे की वजह कैदियों की मानसिक शांति बताई हैं। धर्मवीर प्रजापति ने टीवी चैनल न्यूज 18 यूपी से बातचीत में इसकी जानकारी दी।

जेल में बजेगें गायत्री और महामृत्युंजय मंत्र

उन्‍होंने बताया कि जेल में कई कैदी पेशेवर होते हैं लेकिन कुछ परिस्थितियों के मारे भी होते हैं, जिन्‍हें हालात गलत काम करा जेल पहुंचा देता हैं।

उन्‍होंने कहा कि ऐसे बहुत कैदी होंगे जो जेल में अनायास घटी घटनाओं के चलते हैं। मेरा मानना हैं कि ऐसे कैदियों की मनोदशा में बदलाव के लिए गायत्री मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र जेल में बाजाया जाये।

जेल मंत्री ने कहा कि इस देश में सनातन धर्म और को मानने वाले लोग हैं। मेरा मानना है कि जहां भी कथा-भागवत और मंत्रोच्चारण किया जाता है, वहां का वातावरण बदल जाता है, लोगों की मनोदशा में बदलाव होता हैं।

उन्‍होंने कहा कि इसी को ध्‍यान में रखते हुए मैंने निर्देश जारी किए हैं कि जेल में सुबह प्रार्थना के बाद गायत्री मंत्र या महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण किया जाए।

उन्होंने कहा कि ऐसा करने से हो सकता हैं कि कैदियों की मनोदशा बदले और उनके व्यवहार बदल जाए। उन्हें सुधरने का मौका मिलेगा। जब वो जेल से बाहर आएंगे तो एक अच्छा जीवन जी सकेंगे।

मदरसों पर सरकार का ये फैसला

इसके साथ ही योगी सरकार ने मदरसों पर भी एक बड़ा फैसला लिया है। मदरसों में आधुनिक शिक्षा देने पर राज्य सरकार जोर दे रही है।

इसी को लेकर यूपी के अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री दानिश आजाद अंसारी ने कहा कि सूबे की भाजपा सरकार मदरसों का कायाकल्प करने की तैयारी कर रही हैं।

उन्‍होंने कहा कि मदरसों में बच्चों को आधुनिक शिक्षा मिल सके, इसके लिए मदरसा बोर्ड अरबी में एक ऐप भी लॉन्च करेगा, जिसकी मदद से बच्चों को स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में पढ़ाया जायेगा।

दानिश आजाद ने कहा कि योगी सरकार मदरसों में दीनी तालीम देने वाले 5339 पदों को सामाप्‍त करेगी। बच्चों को महान विभूतियों की जीवन के बारे में पढाया जाएगा। जिससे अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चे समझ सकें कि देश को महान बनाने में किन लोगों का योगदान रहा हैं।

उन्‍होंने कहा कि सरकार की मंशा है कि मदरसों के बच्चे भी प्रतियोगी तैयारियों में समान तौर से हिस्‍सा ले सकें। इसके साथ ही सरकार ने मदरसों में दीनी तालीम देने वाले 5 हजार से ज्‍यादा पदों को ख’त्म करने का फैसला लिया है।