पूर्व उपराष्ट्रपति डॉ हामिद अंसारी की किताब में खुलासा प्रधानमंत्री मोदी शोर-शराबे के बीच बिल पास करने का बनाते थे दबाव

अक्सर देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में दिग्गज राजनेताओं की पुस्तकें चर्चा का विषय बनती है. क्योंकि उन पुस्तकों में कई गहन और छुपी हुई बातें लिखी होती है जिनका पता चलते ही वे खूब वायरल होती हैं. हाल ही में अमेरिका के राष्ट्रपति रहे बराक ओबामा की पुस्तक A Promised Land आई थी जिसमें भारत की राजनीति के बारे में कई बातें लिखी गई थी।

अभी हाल ही में भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पुस्तक The Presidential years आई जो की खासी चर्चा में है. लेकिन इन दिनों एक और पुस्तक चर्चा में बनी हुई है जिसे लिखा है भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति डॉक्टर हामिद अंसारी ने पूर्व उपराष्ट्रपति डॉक्टर हामिद अंसारी ने अपनी किताब बाई मेनी अ हैप्पी एक्सीडेंट में भारत की राजनीति से जुड़ी कई बातें लिखी हैं जो कि इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई हैं।

पूर्व उपराष्ट्रपति ने PM मोदी के बारे में लिखी खास बातें

जनसत्ता की खबर के मुताबिक, डॉक्टर हामिद अंसारी भारत के 12वें उपराष्ट्रपति रहे हैं उन्होंने अगस्त 2007 में उपराष्ट्रपति का पद ग्रहण किया था जिसके बाद अब उनकी यह किताब आई है जिसमें भारत की राजनीति ही नहीं बल्कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कई बातें लिखी हैं जो कि काफी चौंकाने वाली है।

पूर्व राष्ट्रपति डॉ हामिद अंसारी ने अपनी किताब में प्रधानमंत्री मोदी के साथ 2007 में हुई एक मीटिंग का जिक्र किया है उन्होंने लिखा है कि “जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब एक सामान्य राजनीतिक कार्यक्रम में उनसे मेरी मुलाकात हुई थी।

उस मुलाकात के दौरान मैंने उनसे गोधरा में हुई हिं#सा के बारे में पूछा कि आखिर उन्होंने इस घटना को क्यों होने दिया इसके जवाब में उन्होंने कहा कि लोग उनके केवल एक पक्ष को देखते हैं कोई भी उनके मुस्लिमों को किए गए अच्छे कामों पर ध्यान नहीं देता है।

उन्होंने कहा कि हमने मुस्लिमों के लिए बहुत काम किए हैं। खासकर मुस्लिम लड़कियों की शिक्षा के लिए “मैंने उनसे कहा कि अगर वे इसका ब्यौरा दें तो इसका जरूर प्रचार किया जाएगा इस पर उन्होंने कहा कि मुस्लिमों के लिए किए गए कामों का प्रचार मेरी राजनीति के लिए सूट नहीं करता है।

यही नहीं पूर्व उपराष्ट्रपति डॉ अंसारी ने प्रधानमंत्री मोदी के बारे में कई और चौंकाने वाली बातें भी लिखी हैं. उन्होंने लिखा है कि प्रधानमंत्री मोदी राज्यसभा में शोर शराबे के बीच ही बिल को पास करने का दबाव बनाते थे।

उन्होंने एक घटना का जिक्र करते हुए लिखा कि एक दिन अचानक ही प्रधानमंत्री मोदी राज्यसभा के कार्यालय पहुंच गए उन्हें वहां देखकर मुझे आश्चर्य हुआ और मैंने उनका अभिवादन किया उन्होंने राज्यसभा के कार्यालय मुझसे कहा कि हमें आपसे ज्यादा उम्मीद है।

लेकिन आप हमारा साथ नहीं दे रहे हैं आप हं’गामे के बीच ही बिल को पास क्यों नहीं करा रहे हैं। डॉक्टर अंसारी कहते हैं कि वे नहीं चाहते थे कि राज्यसभा से बिल एक ही दिन में पास हो जाए लेकिन उन्हें यह भी लगता था कि लोकसभा में बहुमत होने पर राज्य सभा को नैतिक आधार पर बिल पास कर देना चाहिए।