VIDEO: ताजमहल पर आज तक नहीं लगायी गयीं है लाइट्स, जानिए इसके पीछे छिपे रहस्य को

दुनिया के आठ अजूबों में शामिल ताज महल, वो जादुई इमारत है, जिसे पास से निहारने कि तमन्ना कर किसी कि होती हैं. मुगल शासक शाहजहां की ये अमानत बहुत से लोगों की प्यार कि गवाही देती है. ताजमहल जितना ख़ूबसूरत है यह उतना ही रहस्यमी भी है. इस ऐतिहासिक इमारत के साथ कई ऐसे रहस्य जुड़े हुए हैं, जिन्हें अब तक सुलझाया नहीं जा सका है.

ताज महल से जुड़ी कई जानकारी आप जानते ही होगे लेकिन इससे जुड़े कुछ रहस्य और खास बातें जिन्हें आप नहीं जानते है वहीं बातों के बारे में हम आपको बताने जा रहे है.

क्यों नहीं लगाई गई ताजमहल में लाइट्स?

क्या आप जानते है कि ताजमहल पर लाइट नहीं लगी हुई हैं. लेकिन इसके बाद भी वो सदियों से रात में चमकते हुए नजर आता है. ऐसे लोगों के मन में सवाल यह उठता है कि सदियों बाद भी ताजमहल में कोई लाइट क्यों नहीं लगाई गई? जबकि लाइट लग जाने से तो उसकी रौनक में चार चाँद लग जाएँगे.

जैसे कि हम सब जानते हैं कि ताजमहल को सफ़ेद संगमरमर पत्थर से तैयार किया गया है. विज्ञान के अनुसार सफ़ेद रंग लाइट को सबसे अधिक मात्रा में रिफ़्लेक्ट करता है. यही वजह है कि अगर रात के वक्त में ताज महल पर ब्राइट लाइट्स डाली जाए तो वो लाइट को रिफ़्लेक्ट कर देगा.

इससे होगा यह कि ताजमहल काफ़ी ज़्यादा चमकने लगेगा. जिसके चलते वहां मौजूद कीड़े-मकौड़े भी लाइट की तरफ़ आकर्षित होने लगेगे. यह कीड़े ताजमहल की दीवारों पर भी आ चिपकेंगे.

ऐसे में लाइट के चलते इमारत पर चिपके ये कीड़े उसके संगमरमर के पत्थरों को भी ख़राब कर सकते हैं. इसी के चलते वहां पर लाइट नहीं लगाई गई.

बिना लाइट के रात में चमकता है ताजमहल

आपको बता दें कि ताज महल प्रदूषण के चलते काफी ख़राब होता ही जा रहा है, ऐसे में अगर वहां लाइट्स लगा दी जाए तो ताजमहल और अधिक ख़राब होने लगेगा.

वहीं ताजमहल को लेकर Arcology की बात करे तो Archaeologist के अनुसार ताजमहल को बनाते वक्त इस बात का विशेष ध्यान रखा गया था कि ये इमारत चांद की रौशनी में चमकने लगे. ऐसे में अगर ताजमहल पर आर्टिफ़िशियल लाइट्स लगाई गई तो इसकी प्राकृतिक और असल ख़ूबसूरती ख़’त्म हो जायेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *