योगाचार्य से’क्स रैकेट मामले में बड़ा खुलासा, ऐसी महिलाओं को चुना जाता था काम करवाने के लिए

मध्यप्रदेश के सीहोर में सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया गया. मध्यप्रदेश पुलिस ने अपने घर में यह गं’दा धं’धा चला रही योगाचार्य अनुपमा तिवारी को गिर’फ्ता’र किया. अब इस मामले में कई चौंकाने वाली जानकरी सामने आई है. पुलिस ने इस रेड के दौरान तिवारी के घर से चार लड़कियों को भी पकड़ा था जो भोपाल शहर की बताई जा रही थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भोपाल की इन लड़कियों को काम दिलाने के लालच में फंसाया गया था. भास्कर की एक खबर के अनुसार महिलाऐं काम पाने के लालच में योगाचार्य अनुपमा तिवारी के जाल में फंस जाती थी.

योगाचार्य के रैकेट का सच

अनुपमा महिलाओं के घर पहुंच कर उनसे समाज के कार्यों में जुड़ने के लिए प्रेरित करती थी, अनुपमा कभी खुद को एक पत्रकार तो कभी शिवसेना नेता तो कभी योगाचार्य और समाजसेवी बताया करती थी.

अनुपमा की पहचान देखकर महिलाऐं काम की चाहत में उससे जुड़ जाती थी. बाद में अनुपमा उन्हें किसी बहाने से सीहोर बुलाकर उनकी मजबूरी का फायदा उठाती है. वह महिलाओं को मजबूर करके देह व्यापार के कुंए में धकेल देती थी.

महिला को बहला-फुसला कर देह व्यापार में शामिल करके वह उसे से’क्स रैकेट के वॉट्सऐप ग्रुप में भी ऐड कर लेती थी. वहीं रेड में पकड़ी गई कभी महिलाएं बैरागढ़ की रहने वाली हैं. इसका खुलासा पुलिस के सामने खुद अनुपमा ने किया.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अनुपमा अपने जाल में सिर्फ शादीशुदा महिलाओं को ही फं’साती थी. एएसपी सीहोर समीर यादव ने कहा कि अनुपमा का मानना था कि ऐसी महिलाएं मजबूरी और बदनामी के ड’र के चलते जल्दी राज नहीं खोलती हैं.

इसके चलते वो लंबे वक्त तक देह व्यापार से जुडी रहती थी और उसका राज भी नहीं खोलती थी. पुलिस के मुताबिक अनुपमा यह कारोबार लंबे वक्त से चला रही थी. उसने 15 से अधिक महिलाओं से संपर्क बना रखा था.

वहीं रविवार को देर रात हुई छ्पेमारी के दौरान पुलिस ने मौके से 4 लड़कियां, 3 ग्राहक, ड्राइवर, महिला मैनेजर और संचालिका अनुपमा तिवारी को गिर’फ्ता’र किया था.

ऐसी करती थी महिलाओं का चुनाव

अनुपमा अपने कारोबार के लिए सीहोर से बाहर की महिलाओं को चुनती थी. वो महिलाओं को सोशल काम के नाम पर सीहोर बुलाती थी.

इसके लिए वो खास तौर पर ऐसी महिलाओं का चुनाव करती थी, जो पति से वि’वाद के चलते परेशान हो, अकेली  रह रही हो या फिर पति के बेरोजगार होने के चलते परेशान हो. ऐसी महिलाओं से अनुपमा अपनी पहचान बढ़ाती थी.

इसके बाद उन्हें झांसा देकर दोस्त बनाती फिर काम और पैसों के लालच में या ड’रा-ध’मकाया देह व्यापार से जोड़ देती थी. एक बार इस करोबार में आने के बाद उनके पास इससे बच निकलने का कोई भी रास्ता नहीं रहता था.