यूक्रेन की ख़ूबसूरत महिलाओं की हो रही है चर्चा, जानिए क्या है इनमें वो ख़ास बात

दिल्ली: रूस-यूक्रेन संघर्ष के बीच यूक्रेन की महिलाओं की खूबसूरती और उनकी कर्मठता दोनों आज दुनिया के सामने आ रही है. रुसी सेना से सिर्फ यूक्रेनी युवक ही नहीं बल्कि यूक्रेनी युवतियां भी डटकर मुकाबला कर रही हैं. मिस यूक्रेन से लेकर फ़िल्मी जगत की अभिनेत्रियों और निजी स्क्टरों में काम करने वाली महिलाओं ने भी रायफल थाम ली है. अगर हम यूक्रेन के इतिहास पर नजर डाले तो पता चलता है कि यूक्रेन की महिलाऐं हमेशा से ही देश के विकास में अपनी अहम भूमिका निभाती जा रही है.

रूसी सेना यूक्रेन की राजधानी कीव में घुसने के बाद अब सड़कों और गलियों पर भी अपना कब्जा जमा रही है. संघर्ष से सबसे अधिक कीव की महिलाओं प्रभावित हो रही है जो अपने घरों और समाज में अहम भूमिका निभाती हैं.

यूक्रेन की महिलाओं की खूबसूरती और बहादुरी चर्चा में

Russian Brides नाम के एक पोर्टल के मुताबिक कीव की महिलाओं को पूरे यूक्रेन में सबसे सुंदर कहा जाता है. यहां की लड़कियां अपनी आजादी से अपनी जिंदगी जीना पसंद करती है, लेकिन जब बात देश की आन-बान-शान का हो तो वो हर मोर्चे पर खड़ी नजर आ रही है.

आपको बता दें कि यूरोप के सबसे बड़े महिला संगठन का निर्माण भी यूक्रेन में ही हुआ था. 1920 में आज के पश्चिमी यूक्रेन यानी गैलिसिया में सबसे बड़ा नारीवादी संगठन बना था जिसका नाम ‘यूक्रेनियन वुमंस यूनियन’ रखा गया था.

इस संगठन की लीडर मिलेना रूडनिट्स्का थीं. इसके बाद यूक्रेन में फेमिनिस्ट ओफेनजाइवा, फेमेन, यूक्रेनियन वुमंस यूनियन जैसे कई बड़े संगठन अस्तिव में आए.

यूक्रेन में महिलाऐं सामाजिक तौर पर काफी सक्रिय है, यहां महिलाऐं करियर, राजनीति जैसे अहम निर्णय भी खुद लेती हैं. उन्हें रंग-बिरंगी पारंपरिक वेशभूषा पहना पसंद हैं.

यहां महिलाऐं घर के काम से लेकर कोयला खनन, लोहे की खाने और संसद तक हर क्षेत्र में पुरुषों से कंधे से कंधे मिलाकर चलती हैं. 2019 के यूक्रेनी संसदीय चुनाव में 50 फीसदी से ज्यादा महिलाऐं चुनी गई है जिनकी संख्या कुल संख्या 87 थी.

यूक्रेन में महिलाओं की आबादी 54 फीसदी है, यहां की 60 फीसदी से अधिक महिलाऐं कॉलेज लेवल या इससे ज्यादा पढ़ाई हासिल कर चुकी है. हालांकि नौकरी के मामले में यहां महिलाओं में बेरोजगारी पुरुषों की तुलना में ज्यादा देखने को मिलती है.

यही बना यूरोप का सबसे बड़ा महिला संगठन

यूक्रेन में कुल बेरोजगारी में से 80 फीसदी आबादी महिलाओं शामिल है. इतना ही नहीं कीव पोस्ट के अनुसार एक समान पद पर काम कर रही महिलाओं को पुरुषों की तुलना में यहां 30 फीसदी कम सैलरी का भुगतान किया जाता है.

वहीं यूक्रेनी सेना में महिलाओं की स्थिति की बात करें तो यहां 1993 से महिलाओं की सेना में नियुक्ति को मंजूरी मिली. लेकिन इसके बाद भी यहां की सेना में महिलाओं की भागीदारी सिर्फ 15 प्रतिशत है. वहीं सैन्य अधिकारियों के तौर पर कुल 1100 महिलाएं तैनात हैं.

यूक्रेन में महिलाओं की स्थिति काफी प्रभावशाली है लेकिन इसके बाद भी यहां महिलाओं के खिलाफ काफी ज्यादा मामले सामने आते है. यूक्रेन के अपराध के आंकड़ों पर नजर डाले तो देश में प्रति वर्ष करीब 45 फीसदी आबादी को शा’रीरिक, यौ’न और मानसिक हिं’सा झेलना पड़ता है. जिसमें से अधिकतर महिलाएं होती हैं.