उदयपुर: जब कन्हैया लाल का पहले समझौता हो चुका था, तो फिर क्यों हो गया ऐसा

राजस्‍थान के उदयपुर से एक सनसनीखेज और रोगटे खड़े कर देने वाला मामला सामने आया हैं। यहां एक शख्‍स को धर्म के नाम पर बेहद बर्बरता के साथ मौ’त के घाट उतार दिया गया। मामला उदयपुर के धानमंडी थाने का बताया जा रहा हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इलाके के टेलर कन्हैयालाल साहू के साथ यह घटना उन्‍हीं की दुकान में घुसकर की गई।

इस मामले को लेकर धानमंडी थाने के ASI भंवरलाल पर कार्यवाही कर उन्‍हें सस्पेंड कर दिया गया है।  दरअसल भंवरलाल ने ही कन्हैयालाल और उसके खिलाफ शिकायत कराने वालों के बीच समझौता करवाया था।

बेटे ने गलती से किया था पोस्‍ट

खबरों के अनुसार कुछ दिन पहले कन्हैयालाल के फोन से बीजेपी की निलंबित नेता नुपूर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर एक पोस्‍ट किया गया था।

यह पोस्‍ट नुपूर शर्मा द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर की गई थी। इसी को लेकर नाजिम नाम के एक शख्‍स ने टेलर कन्हैयालाल के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

इस मामले को लेकर कन्हैयालाल को 11 जून को थाने ने जानकारी दी थी। 15 जून को धानमंडी थाने में कन्हैयालाल ने भी एक शिकायत दर्ज कराई।

उन्‍होंने बताया कि कुछ दिन पहले उनके बेटे ने गेम खेलते वक्‍त फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट गलती से कर दिया था, जिसकी जानकारी उन्‍हें नहीं थी।

कन्हैयालाल ने शिकायत में बताया कि इसके दो दिन बाद मेरी दुकान पर दो व्यक्ति आए और मेरा फोन लेकर वो पाेस्‍ट डिलीट करके मुझे आइंदा से ऐसे पोस्‍ट नहीं करने के लिए कहा।

मेरे खिलाफ थाने में केस दर्ज होने की खबर मिलने पर मैं वहां गया तो पता चला कि शिकायतकर्ता नाजिम मेरा पड़ोसी ही था। उसके बताया कि वो अपने समुदाय के दबाव में रिपोर्ट दर्ज कराई हैं।

उसने कहा कि मैं जानता हूँ कि आपको मोबाइल चलाना नहीं आता और आप ये पोस्ट नहीं कर सकते है। कन्हैयालाल ने अपनी शिकायत में कहा कि नाजिम और उसके 5 साथी 3 दिन से उनकी दुकान की रेकी कर रहे हैं और दुकान नहीं खोलने दे रहे थे।

उन्‍होंने यह भी बताया कि उनका फोटो वायरल करके उनके साथ कुछ गलत करने की धमकियॉं दी जा रही हैं। कन्हैयालाल ने पुलिस से गुहार लगाई थी कि नाजिम और उसके दोस्तों पर कानूनी कार्रवाई की जाए और उसे सुरक्षा दी जाए।

कन्‍हैयालाल ने किया था समझौता

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार मामले को बढ़ता देख पुलिस ने दोनों पक्षों को बुला कर समझोता करा दिया। इसके बाद नाजिम खान ने थाने को एक पत्र लिखकर कहा कि कन्‍हैयालाल साहू को परेशान नहीं किया जाएगा।

नाजिम खान ने लिखा कि मैंने फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट करने को लेकर कन्हैयालाल तेली के खिलाफ केस दर्ज कराया था, जिसमें कानूनी कार्रवाई पूरी हो गई हैं। हमारे बीच आपसी बातचीत से समझौता हो गया हैं। मैं और मेरा दोस्त उनकी दुकान की तरफ जाकर कोई विवाद नहीं करेंगे।

ऐसा ही पत्र कन्हैयालाल ने भी थाने को लिखा। लेकिन इस समझौते के बाद भी 17 जून को मोहम्मद रियाज ने एक वीडियो बनाकर कन्हैयालाल को ऊपर भेजने की धम’की दी और 28 जून उसने ऐसा ही किया।

इसके बाद राजस्थान पुलिस ने कुछ घंटे में ही दोनों आरोपियों मोहम्मद रियाज अख्तारी और मोहम्मद गोस को गिरफ्तार कर लिया।