कौन हैं पत्रकार दिग्विजय सिंह जिन्‍होंने पुलिस के सामने लगाए DM-SP मुर्दाबाद के नारे, क्‍यों हुई उनकी गिरफ्तारी

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया, जिसमें एक शख्‍स निडर होकर पुलिस बल के सामने एसपी और बलिया डीएम मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए नजर आया। यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। शख्‍स ने बलिया डीएम को नकलखोर भी करार दिया। यह शख्‍स और कोई नहीं बल्कि बलिया के वह पत्रकार हैं जिन्‍होंने हाल की में पेपर लीक की खबर प्रकाशित की थी।

पत्रकार का नाम है दिग्विजय सिंह, जिन्‍हें बलिया पुलिस ने दो अन्‍य साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया है। सोशल मीडिया पर इनके साहस को खूब सराहया जा रहा हैं।

पुलिस के सामने लगाए मुर्दाबाद के नारे

लेकिन सवाल यह है कि इतनी ईमानदारी और हिम्मत का परिचय देने वाले पत्रकार दिग्विजय सिंह को आखिर गिरफ्तार क्यों क्‍यों किया गया? और आखिर क्‍यों पत्रकार ने प्रशासन के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए?

दरअसल 30 मार्च 2022 को अमर उजाला में खबर छापती है कि यूपी बोर्ड में कक्षा 12वीं का अंग्रेजी विषय का पेपर लीक हुआ है, जिसके बाद प्रशासन परीक्षा रद्द करवा देता हैं।

इस खबर को दिग्विजय सिंह और अमर उजाला में उनके साथी पत्रकार अजीत कुमार ओझा प्रकाश में लाए। दिग्विजय सिंह का दावा है कि बलिया जिले के भीलपुरा, रगरा और भीलतरा वो इलाके हैं, जहां के परीक्षा केंद्रों में लगातार नकल कराई जा रही हैं।

वहीं इससे पहले उन्होंने हाईस्कूल के संस्कृत विषय के पेपर लीक की खबर भी प्रकाशित की और इसके अगले ही दिन उन्‍हें अंग्रेजी विषय के पेपर लीक की जानकारी मिली।

जिसके बाद उन्‍होंने इसे प्रकाशित कर प्रशासन के इंतजामों की पोल पट्टी खोल दी। लेकिन प्रशासन ने क्‍या किया। बजाए इसके के नकल माफियाओं पर शिकंजा कसा जाए, उन्‍होंने यह खबर छापने वाले पत्रकार को पकड़ना ज्यादा जरुरी समझा।

पत्रकार दिग्विजय सिंह और अजीत कुमार ओझा को बलिया पुलिस ने सिर्फ इसलिए गिरफ्तार कर लिया, ताकि यह पता लगाया जा सके कि इन पत्रकारों को पेपर लीक की जानकारी मिली कहां से।

पत्रकार की हिम्‍मत की हुई सराहना

पत्रकार दिग्विजय सिंह का आरोप है कि उन्‍हें और उनके साथियों को पुलिस बल लगातार परेशान कर रहा हैं और उन पर सूत्रों का नाम उजागार करने का दबाव डाला जा रहा हैं।

वहीं दिग्विजय सिंह ने भी प्रशासन की इस कार्यवाही का विरोध करते हुए साफ जाहिर कर दिया है कि वो पुलिस से डरने वाले नहीं हैं। दिग्विजय सिंह की इसी हिम्‍मल की लोग सराहना कर रहे हैं। अब तक कई पत्रकारों ने ट्वीट कर उनका समर्थन किया हैं।