सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों के लिए बनाए ये तगड़े नियम, मंत्रियों ने अकेले में फुला लिए होंगे गाल

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की शानदार जीत के बाद योगी आदित्‍यनाथ और उनके मंत्री शपथ ग्रहण कर चुके हैं, साथ ही मंत्रियों को उनके विभाग भी दे दिए गए हैं। सीएम योगी का कहना है कि उनकी सरकार सूबे के विकास के लिए पूरी तरह से समर्पित रहेगी। इसी बीच सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों के लिए नए नियम बनाए हैं जो मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक चर्चा में बने हुए हैं।

नए नियमों के अनुसार अब यूपी सरकार के मंत्रियों को बिना जानकारी दिए सूबे से बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी। अगर मंत्री यूपी से बाहर जाने चाहते है तो उन्‍हें ऐसा करने से पहले इसकी जानकारी सरकार और पार्टी दोनों को देना होगा।

सीएम योगी के मंत्रियों को लिए बने ये नियम

इसके अलावा अब मंत्री अपने मन मर्जी से बड़ी गाड़ियों, घरों और दफ्तरों में फर्नीचर पर पैसे खर्च नहीं कर सकेंगे। इंडिया टुडे से जुड़े कुमार अभिषेक की रिपोर्ट के अनुसार यूपी सरकार के मंत्रियों को उनके काम के लिए टारगेट भी दिए जाएगें।

इसके अलावा मंत्रियों को अपने काम की स्‍टेटस रिपोर्ट 100 दिन के भीतर देना होगा। जिसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ मंत्रियों के कार्यों की समीक्षा करने के बाद बताएंगे कि आगे क्‍या और कैसे करना है।

इसके साथ ही मंत्रियों के लिए एक नियम यह भी बनाया गया है कि उन्‍हें कैबिनेट में पेश होने वाले प्रस्तावों को खुद ही पेश करना होगा।

अब मंत्रियों के विभाग प्रमुख और उनके सचिव ऐसा नहीं करेंगे। उन्‍हें खुद ही प्रस्‍ताव पेश करना होगा, सचिव और विभाग प्रमुख सिर्फ उनकी सहायता के लिए मौजूद होंगे।

नहीं रख सकेंगे अपनी पसंद का निजी स्‍टाफ

एक नियम मुख्यमंत्री की बैठकों को लेकर भी बनाया गया है, इस नियम के तहत सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ होने वाली बैठकों में अब सिर्फ अपर सचिव और प्रमुख सचिव ही विभाग को लेकर जानकारी देंगे।

नियमों के तहम अब सीएम योगी के सामने सचिव स्तर के अधिकारी ब्रीफिंग नहीं करेंगे। रिपोर्ट के अनुसार अब मंत्रियों को उनकी पसंद के मुताबिक निजी सचिव भी नहीं दिए जाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मंत्रियों को निजी सचिव देने के लिए अधिकारियों का एक पूल तैयार किया जाएगा और इसी के तहत रोटेशन के आधार पर मंत्रियों को निजी सचिव दिए जाएंगे।

यह व्यवस्था मंत्रियों और अफसरों के स्तर पर भ्र’ष्टाचार को खत्‍’म करने के लिए बनाई हैं। इतना ही नहीं लाइव हिंदुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार यूपी के मंत्रियों को अपना निजी स्‍टाफ अपनी पसंद से रखने की अनुमति भी नहीं होगी।