प्रेमिका से मिलने पहुंचा युवक, गांव वालों ने पकड़ा और फिर हुआ वो जिसे युवक जिंदगी भर नहीं भूल पाएगा

बिहार से प्यार का एक ऐसा मामला सामने आया है, जो इससे पहले आपने कभी ना तो सुना होगा और ना ही देखा होगा. मामला राज्य के पश्चिम चंपारण के रामनगर प्रखंड में सामने आया है. यहां एक युवक गुरुवार की देर रात 17 किलोमीटर का सफर साइकिल से तय करके अपनी प्रेमिका से मिलने पहुंचा था. इसके बाद वो हुआ जिसके बारे में युवक ने घर से निकलते वक्त सोचा तक नहीं होगा.

दरअसल युवक का प्यार परवान चढ़ा और उसे अपनी मंजिल मिल गई. जब युवक और युवती सब से नज़रे छुपा कर बातचीत कर रहे थे उसी दौरान गांव वालों ने उन्हें पकड लिया.

मिलते हुए गांव वालों ने पकड़ा

इसके बाद गुरुवार की देर रात दोनों प्रेमियों की शादी करा दी गई. रामनगर प्रखंड के खटौरी शिव मंदिर में युवक और युवती परिणय सूत्र में बंध गए. इस दौरान दोनों के परिवार वालों ने भी नवदंपति को आशीर्वाद दिया.

न्यूज़ एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार गांव वालों ने बताया कि सपही भावल गांव की रहने वाली मंजू कुमारी और बेलवा चखनी गांव के रहने वाले बबलू कुमार की पहली मुलाकात एक शादी के दौरान तीन साल पहले हुई थी.

शादी के दौरान दोनों में जान पहचान हुई और दोस्ती हो गई. शादी के बाद दोनों वापस गांव लौट आए लेकिन फोन पर बातचीत शुरू हो गई. धीरे-धीरे दोस्ती प्यार में बदल गई. दोनों एक-दुसरे से मिलने के लिए तड़पने लगे.

मौका देख कर बबलू अपनी प्रेमिका के गांव 17 किलोमीटर साइकिल चलाकर पहुंच जाता करता और दोनों गांव के नजदीक ही मिलने लगे. कहते है प्यार की खबरें ज्यादा दिनों तक कहां छिप पाती है. खबर फैली और मंजू के घरवालों तक पहुंच गई तो उन्होंने बड़ा गु’स्सा किया.

लेकिन प्यार में पाग’ल लोग किसी के रोकने से रुके है. मुताकतें चलती रही. एक बार तो गांव वालों ने मिलते हुए पकड लिया, लेकिन चेतावनी देकर छोड़ दिया गया. इसके बाद भी दोनों मिलते रहे.

तीन साल बाद प्यार को मिली मंजिल

ग्रामीणों के अनुसार बात हद से बढ़ती देख दोनों गांवों में पंचायत बुलाई गई. दोनों को पंचायत और परिजनों ने काफी समझाया लेकिन बबलू और मंजू तो साथ जीने और म’रने की कसमें खा चुके थे. दोनों शादी करने की जिद्द करने लगे.

पंचायत ने दोनों के परिजनों को समझाने का प्रयास किया लेकिन बात नहीं बनी. गुरुवार की शाम बबलू मंजू से मिलने उनके गांव पहुंचा. ग्रामीणों ने दोनों को मिलते पकड़ लिया, इसके बाद दोनों की शादी की तैयारी शुरू कर दी.

दोनों के परिजनों को बुलाया गया और ग्रामीणों ने समझाया बुझाया तब उनकी सहमति के बाद खटौरी शिव मंदिर में दोनों की शादी करा दी गई. शादी के बाद बबलू ने कहा कि आखिर हमारे प्यार को मंजिल मिल ही गई, हमने सच्चा प्रेम किया, तीन साल तक छिप-छिपकर मिलने के बाद अब जाकर शादी हो गई.